Home  |  Guestbook  |  Login   |  Subscribe to Newsletter

Pujya Maharajshri

 

Anand Vrindavan Asharm

ANAND VRINDAVAN:
Swami Sachchidanandaji Saraswati Maharaj
Anand Vrindavan Asharam
Swami Shri Akhandanand Marg
Moti Jheel
Vrindavan (Mathura), U.P.
PIN: 281121 INDIA.

 

Follow us on !
 

 
MaharajShri's Speaks
Audios / Videos

 
Speeches' CD & DVD
 
  Maharajshri's Blog
     
 
 
 

Swami Akhandanandji Saraswati - Our Maharajshri!

 

Immortal Thoughts

 
क्षण भर के लिए अपने आपका ही निरीक्षण, परीक्षण या समीक्षण कीजिये। आपका "मैं" किसी विकीर्ण कण के समान संकीर्ण तो नहीं हो गया है ? आपका "मैं" ज्ञान के प्रकाश को आवृत्त तो नहीं करता ? आप कब-कब, कहाँ-कहाँ, किस-किससे "मैं" को जोड़ते हैं और कैसे-कैसे तोड़ते हैं? आप जान में, अनजान में अपने "मैं" को कितना महत्त्व देते हैं? अपने "मैं" में कितना लीन रहते हैं? दृष्टि को उदीर्ण और विस्तीर्ण होने दीजिये। अस्मिता को = मैं-पन  को दृश्य के साथ नहीं, असंग चेतन के साथ जोड़िये। वह "मैं" प्रकाशक होगा तो आप समाधि की ओर बढ़ेंगे। अंतर्यामी होगा तो भक्ति-भावना और शरणागति का उदय होगा।
 

 

Up Coming Events

 
शरदोत्सव के पावन अवसर पर पुरीपीठाधीश्वर शंकराचार्य

श्रीस्वामी निश्चलानन्द सरस्वती जी के द्वारा  प्रवचन- 

प्रातः सत्संग,समय-9.30 से 10. 30

विषय-श्रीमद्भगवद्गीता अध्याय-5

दिनांक-26  सितम्बर से 3 अक्टूबर-2017 , 

स्थान-श्रीनृत्यगोपाल मन्दिर प्रांगण,  आनन्द वृन्दावन

मोती झील,स्वामी अखण्डानन्द आश्रम,वृन्दावन   
 

 
 

Copyright'Maharaj shri' 2013-14

 

Website Design & Developed by : Total Web Technology Pvt. Ltd.